थम सकती है ग्लोबल वार्मिंग

  • Posted on: 21 February 2012
  • By: satish

क्या जलवायु परिवर्तन को रोका जा सकता है और क्या ग्लोबल वार्मिंग की रफ्तार धीमी की जा सकती है? नासा केएक वैज्ञानिक का दावा है कि यदि वायु प्रदूषण केकुछ उपाय किए जाएं तो 2050 तक न सिर्फ विश्व तापमान वृद्धि को कम किया जा सकता है बल्कि पूरी दुनिया में हर सीजन में 13.5 करोड़ मीट्रिक टन अतिरिक्त फसल का उत्पादन भी किया जा सकता है। प्रदूषक तत्वों के उत्सर्जन में कमी से दुनिया के सभी क्षेत्र लाभान्वित होंगे, लेकिन भारत सहित तमाम एशियाई देशों को स्वास्थ्य और कृषि के क्षेत्रों में अतिरिक्त लाभ मिलेगा। न्यूयॉर्क स्थित नासा के गोडार्ड इंस्टिट्यूट फॉर स्पेस स्टडीज केवैज्ञानिक ड्रयू शिंडेल के नेतृत्व में एक अंतरराष्ट्रीय टीम ने प्रदूषण नियंत्रण केलिए 400 उपायों पर गौर करने केबाद 14ऐसे उपायों को चुना है जो जलवायु केलिए सबसे ज्यादा फायदेमंद साबित होंगे। इन सारे 14 उपायों से काले कार्बन और मीथेन गैस केउत्सर्जन पर अंकुश लगाया जा सकता है। ये दोनों प्रदूषक तत्व जलवायु परिवर्तन की प्रक्रिया को तेज करते हैं। इनका मानव और पेड़-पौधों केस्वास्थ्य पर सीधा प्रभाव पड़ता है। इनसे बनने वाली ओजोन गैस भी बहुत नुकसान करती है। जीवाश्म आधारित ईंधन, लकड़ी या गोबर आदि जलाए जाने से निकलने वाले धुएं में काला कार्बन होता है। इससे सांस और दिल की बीमारियां और बदतर हो जाती हैं। छोटे-छोटे प्रदूषक कण सूरज से आने वाले रेडिएशन को सोख लेते हैं, जिससे वायुमंडल गरम हो जाता है और वर्षा केपैटर्न में परिवर्तन होने लगता है। इनकेअलावा ये बर्फ को काला कर देते हैं, जिससे उनकी परावर्तकता कम हो जाती है। इससे ग्लोबल वार्मिंग की प्रक्रिया में तेजी आती है। मीथेन एक रंगहीन और ज्वलनशील पदार्थ है। मीथेन गैस न सिर्फ तापमान में वृद्धि करती है, बल्कि जमीन पर ओजोन उत्पन्न करने में भी सहायक होती है। वैसे तो दीर्घावधि में कार्बन डाइऑक्साइड गैस ग्लोबल वार्मिंग के लिए मुख्य रूप से जिम्मेदार होगी, लेकिन शिंडेल और उनकी टीम का मानना है कि काले कार्बन और मीथेन को सीमित करने का असर तत्काल पड़ेगा क्योंकि ये प्रदूषक तत्व वायुमंडल में बहुत तेजी से फैलते हैं। इन पर नियंत्रण के उपायों से दक्षिण एशिया और पश्चिम एशिया में वर्षा के पैटर्न में लाभकारी परिवर्तन होने से कृषि उत्पादन में सुधार होगा। इन उपायों से रूस जैसे देशों को भी फायदा होगा, जिनकेबहुत बड़े भूभाग पर बर्फ छाई रहती है। दक्षिण एशिया में भारत, बांग्लादेश और नेपाल में अकाल मौतों में भारी कमी आ सकती है। अध्ययन के मुताबिक पूरी दुनिया में 7 लाख से 47 लाख के बीच अकाल मौतें कम की जा सकती हैं। काले कार्बन केलिए जिन तकनीकों का विश्लेषण किया गया है, उनमें डीजल वाहनों के लिए फिल्टर लगाना, अधिक उत्सर्जन वाले वाहनों पर रोक, रसोई के चूल्हों को अपडेट करना, ईंट बनाने के लिए पारंपरिक भ_ों की जगह अधिक प्रभावी भ_ों का प्रयोग और कृषि कचरे को जलाने पर रोक शामिल है।         

-नवीन शर्मा

Category: