Editorial

All news from Editor

बढ़ता 'साइबर अपराध'

  • Posted on: 25 August 2016
  • By: admin

भारत में पिछले साल 2005 से 2014 के बीच कुल दस वर्षोंं में साइबर अपराध के मामलों में 19 गुना बढ़ोतरी हुई है। इसके साथ ही इन्टरनेट पर दुर्भावनापूर्ण गतिविधियों के मामले में भारत का अमेरिका और चीन के बाद दुनिया में तीसरा स्थान है। वही दुर्भावना पूर्ण कोड के निर्माण में भारत का स्थान दूसरा वेब हमले और नेटवर्क हमले के मामले में क्रमश: चौथा और आठवां स्थान है। कहना गलत न होगा कि राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के अनुसार साइबर अपराधियों की गिरफ्तारी में नौ गुना बढ़ोतरी हुई है।

समाधान की मंशा और संवाद ने बनाई राह

  • Posted on: 10 August 2016
  • By: admin

दस साल के लंबे वक्त से अटके जीएसटी विधेयक का पारित होना अर्थ जगत के लिए तो बड़ी खबर है ही लेकिन राजनीति के लिए आंख खोलने वाली बड़ी घटना भी है। कभी जिद तो कभी अवरोधों में अटका रहा विधेयक जितने सुखद और शांत माहौल में परवान चढ़ा।उसने यह साबित कर दिया कि राजनीति में संवाद जरूरी है। दोतरफा संवाद और समस्या के निपटारे की मंशा हो तो पिछले कुछ वर्षों में राजनीतिक अखाड़े का नजारा देने वाली संसद सर्वोच्च पंचायत की अपनी पुरानी गरिमा में फिर से लौट सकती है। यह आस और अपेक्षा जग गई है कि काश, संसद में ऐसा दिन रोज दिखे जब चर्चा व्यक्तिगत राजनीति के बजाय जनहित पर हो। मानसून सत्र का तेवर शुरू से बदला- बदला थ

शहरीकरण से दूर होगी गरीबी?

  • Posted on: 25 July 2016
  • By: admin

पिछले महीने पुणे में स्मार्ट सिटी परियोजना का शुभारंभ करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि शहरीकरण को समस्या नहीं, बल्कि गरीबी दूर करने का एक अवसर माना जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि यदि किसी में गरीबी कम करने की क्षमता है, तो वह हमारे शहर हैं, क्योंकि वहां काम के अवसर हैं. यही वजह है कि गरीब गांवों से निकल कर शहरों में जाते हैं. लेकिन, क्या यह सच है? क्या सचमुच शहरीकरण से गरीबी दूर हो सकती है? विश्व-बैंक तथ्यों के आधार पर दावा करता है कि शहरीकरण की वजह से चीन, भारत, कई अफ्रीकी व दक्षिण-अमेरिकी देशों में जीवन-स्तर सुधरा है.

भारत में मानव पूंजी

  • Posted on: 10 July 2016
  • By: admin

भारत विश्व मानव पूंजी सूचकांक में गिरकर 105वें स्थान पर पहुंच गया है। यह सूचकांक वर्ल्ड इकॉनोमिक फोरम (डब्लूईएफ) जारी करता है। 2013 में इसमें भारत 78वें नंबर पर था। पिछले साल 124 देशों की सूची में वह 100वें स्थान पर पहुंच गया। फिलहाल जी-20 के सदस्य देशों के बीच वह सबसे निचले पायदान पर है। यह स्थिति न सिर्फ निराशाजनक, बल्कि चिंता पैदा करने वाली भी है। यह बताती है कि अगर विकसित अथवा उभरती अर्थव्यवस्था वाले देशों में भारत को प्रतिष्ठा प्राप्त करनी है, तो इसके लिए यहां काफी कुछ करने की जरूरत है। डब्लूईएफ शिक्षा, रोजगार और श्रमशक्ति की गतिशीलता से संबंधित आंकड़ों को सम्मिलित करते हुए यह सूचकांक

मनुष्य के सुखमय जीवन का आधार है योग

  • Posted on: 25 June 2016
  • By: admin

पिछले साल दुनिया भर के 191 देशों में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस समारोह मनाया गया था जिसमें 47 इस्लामी देश शामिल थे। इस बार भी इस दिन दुनियाभर के करोड़ों लोग अपने अपने देशों में योग करेंगे। पिछले साल इसी दिन 40 हजार लोगों ने राजपथ पर एक साथ योग किया था जिसकी पूरी दुनिया में चर्चा हुई थी। योग एक आध्यात्मिक प्रक्रिया को कहा जाता है, जिसमें शरीर, मन और आत्मा को एक साथ लाने का काम होता है। यह शब्द, प्रक्रिया और धारणा बौद्ध, जैन और हिन्दू धर्मों में ध्यान प्रक्रिया से सम्बन्धित है।

ज्वैलरी कारोबार में 'कालेधन' का प्रवाह

  • Posted on: 10 June 2016
  • By: admin

संभावना व्यक्त की जा रही है कि टैक्स कलेक्टेड एट सोर्स (टीएसएस) के अन्तर्गत ज्वैलरी उद्योग को दी जाने वाली विशेष रियायत के बारे में डॉ.

ऑनलाइन से दूर होना अब आसान नहीं

  • Posted on: 25 May 2016
  • By: admin

वर्चुअल दुनिया से दूर रहने को आजकल समझदारी की तरह से पेश किया जाता है। माना जाता है कि इंसान के लिए अच्छा है। इससे उसे अपना आत्मविश्वास, अपनी आजादी और अपनी रचनात्मकता वापस मिल जाती है। दूसरी, ऑनलाइन चीजों पर उसकी निर्भरता कम हो जाती है। इससे हम ज्यादा बेहतर ढंग से फोकस कर पाते हैं और रिश्तों को निभा पाते हैं। फ्रांस में लोगों को डिस्कनेक्ट रहने का अधिकार देने की बात चल रही है। मांग की जा रही है कि कर्मचारियों, खासकर तकनीकी कंपनियों में काम करने वालों को शनिवार और इतवार को ई-मेल से दूर रहने की इजाजत मिलनी चाहिए। वहां की ट्रेड यूनियनों के लिए यह बड़ा मुद्दा बन चुका है।

रहीमन पानी राखिये

  • Posted on: 10 May 2016
  • By: admin

रहीमन पानी राखिये बिन पानी सब सूनये कहावत पूर्व में जितनी प्रासंगिक रही होगी आज उससे भी अधिक मौंजू नजऱ आती है। आज सुन्दर गृहिणियों के चेहरे का पानी हौद में पानी भरने के चक्कर में लुप्त होता जा रहा है। जिन घरों में पानी है, वहां का रहन-सहन अन्य लोगों से भिन्न है। आज मेरे शहर में चूहे पर विराजमान गणोश या उल्लू पर बैठी लक्ष्मी उतने प्रासंगिक नहीं हैं, जितना प्रासंगिक टैंकर और उस पर विराजमान ड्राइवर है। हाई प्रोफाइल महिलाओं से लेकर सामान्य गृहिणियों का जमघट जब टैंकर आने से इसके ईर्द-गिर्द एकत्र होता है तब टैंकर का प्रभारी ये ड्राइवर अनायास ''कान्हा' सा प्रतीत होने लगता है। जैसे गोपियों के मध्य

गरीबी से मिलेगी निजात

  • Posted on: 25 April 2016
  • By: admin

अगले सोलह वर्षो में भारत गरीब देश नहीं रह जाएगा बशत्रे दस फीसद की विकास दर हासिल करते हुए 100 खरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बन जाए। उत्साह से सराबोर कर देने वाला यह आकलन है नीति आयोग का। नई दिल्ली में लोक सेवा दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री तथा बड़ी संख्या में उपस्थित लोक सेवा अधिकारियों की मौजूदगी में नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अमिताभ कांत ने ''सचिवों के समूह की रिपोर्ट' में यह आशावाद जतलाया। दरअसल, गरीबी से निजात पाने के लिए आवश्यक है कि नित बढ़ती आबादी की बुनियादी जरूरतें पूरी होने के साथही उनका रहन-सहन भी बेहतर हो। ऐसा लोगों की आय में इजाफा होने से ही संभव हो सकता है, जिसके लिए

सस्ते कर्ज की राह

  • Posted on: 10 April 2016
  • By: admin

अभी तक आम आदमी के लिए आरबीआई की मौद्रिक समीक्षा में नीतिगत दरों में कटौती के कोई खास मायने नहीं होते थे। समीक्षा में दरों में कटौती होने पर इस बात की कोई गारंटी नहीं थी कि बैंक कर्ज सस्ता करेंगे अथवा नहीं। लेकिन आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन ने बैंकों की इस मनमानी पर काफी हद तक अंकुश लगाने में काफी हद तक कामयाब दिख रहे हैं। अपने टेक्नोक्रेट ज्ञान का बखूबी इस्तेमाल करते हुए उन्होंने कर्ज की ब्याज दरें निर्धारित करने का एक उपयोगी तंत्र लागू किया है। इसमें कर्ज की ब्याज दरें फंड की न्यूनतम लागत के आधार पर निर्धारित की जाएंगी। आरबीआई के निर्देश पर यह व्यवस्था एक अप्रैल से लागू हो गई है। देश के तमाम

Pages