50 फीसदी पद खाली, हर तीन महीने में एम्स करेगा डॉक्टरों की नियुक्ति

  • Posted on: 25 November 2018
  • By: admin
नई दिल्ली। फैकल्टी की कमी से जूझ रहे नए अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थानों (एम्स) को राहत देने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय एम्स की नियुक्ति प्रक्रिया में आमूल-चूल बदलाव करने जा रहा है। इसके तहत दिल्ली समेत सभी एम्स के लिए कॉमन सेलेक्शन बोर्ड का गठन किया जाएगा और हर तीन महीने पर एक बार विज्ञापन निकालकर फैकल्टी की नियुक्ति की जाएगी।
इसी महीने प्रस्तावित एम्स के केंद्रीय शासकीय निकाय की बैठक में इस प्रस्ताव को मंजूरी के लिए रखा जाएगा। प्रधानमंत्री स्वास्थ्य योजना के तहत देशभर में प्रस्तावित 21 एम्स में से छह नए एम्स में एमबीबीएस और पीजी की पढ़ाई शुरू हो चुकी है, वहीं अगले साल से तीन से चार और एम्स में पढ़ाई शुरू होने की उम्मीद है। बावजूद इसके सभी नए एम्स में फैकल्टी व गैर-फैकल्टी स्टाफ का टोटा है। लगातार किए जा रहे प्रयासों के बावजूद नए एम्स में आधी फैकल्टी पद खाली पड़े हैं। वहीं, गैर-फैकल्टी मामले में तीन चौथाई पद खाली हैं। इसे दूर करने के लिए मंत्रालय ने अब कॉमन सेलेक्शन बोर्ड के गठन का फैसला लिया है।
 
Category: