सीमा क्षेत्र में मूलभूत सुविधाओं के विकास पर फोकस - मुख्यमंत्री

  • Posted on: 10 March 2019
  • By: admin
जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि देश की सीमाओं पर संकट के समय पूरा भारत एकजुट रहा है, चाहे वह कारगिल की लड़ाई हो या उससे पूर्व के युद्ध। हमारे देश की यही परम्परा है कि हर नागरिक अपने बहादुर जवानों के साथ खड़ा रहता है और हम इसे बनाए रखेंगे। गहलोत गुरूवार को श्रीगंगानगर में भारत-पाक सीमा के समीप हिन्दुमलकोट सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) की चौकी पर जवानों से बातचीत कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि पुलवामा में हुए आंतकी हमले को लेकर देश भर के लोगों ने सरकार और सेनाओं के प्रति समर्थन जाहिर किया है। राजस्थान में प्रदेश सरकार सुरक्षा बलों की सुविधाओं का प्राथमिकता से ध्यान रखेगी। उन्होंने कहा कि सीमा क्षेत्र में बिजली, सड़क तथा पेयजल सहित मूलभूत सुविधाओं पर फोकस किया जायेगा। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि देश में आतंकवाद को कभी बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। हमारे सुरक्षा बल देश विरोधी गतिविधियों तथा आतंकवाद को नेस्तनाबूद करेंगे। उन्होंने कहा कि हमारे जवानों का हौंसला बुलंद है और वे किसी भी संकट से लडऩे के लिए हमेशा तैयार हैं।
उन्होंने कहा कि प्रदेश में बीएसएफ के जवानों के लिए अन्य सुविधाओं के साथ-साथ कैंटीन के सामान पर जीएसटी की दरों को घटाने के विषय में सक्षम स्तर पर चर्चा की जाएगी। गहलोत ने बीएसएफ की महिला विंग सहित बल के अधिकारियों तथा जवानों से बातचीत की और उन्हें फल तथा मिठाइयां भेंट की। 
सीमा क्षेत्र में नागरिकों की समस्याओं पर अधिक ध्यान दिया जायेगा
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जवानों से मिलने के बाद गांव खाट्लबाना में किसानों को ऋण माफी प्रमाण-पत्र वितरण कार्यक्रम के अवसर पर कहा कि सीमा क्षेत्र के नागरिकों के दैनिक जीवन में प्रदेश के अन्य हिस्सों की बजाय अलग तरह की समस्याएं होती हैं। इसलिए इन क्षेत्रों के नागरिकों को मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए अधिक ध्यान दिया जाएगा। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार की कथनी और करनी में कोई फर्क नहीं है। प्रदेश का आमजन विकास की बात करता है और हमारी सरकार बिना भेदभाव के पूरे राजस्थान के लिए समान रूप से विकास की योजनाएं लागू कर रही है। बीते 80 दिनों में राज्य सरकार ने किसानों, पशुपालकों, युवाओं और व्यवसायों से जुड़े अनेक जनकल्याणकारी निर्णय लिये हैं। प्रदेश सरकार ने किसानों की कर्ज माफी का निर्णय लिया और अकेले श्रीगंगानगर जिले में 500 करोड़ रूपय के कर्ज माफ हुए हैं। 
इस अवसर पर राजस्व मंत्री हरीश चौधरी, शिक्षा राज्यमंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा, विधायक राजकुमार गौड एवं जगदीश जांगिड, पूर्व मंत्री गुरमीत सिंह कुन्नर, पूर्व विधायक श्रीमती सोना देवी सहित अनेक जनप्रतिनिधि, कलक्टर शिवप्रसाद मदन नकाते, पुलिस अधीक्षक हेमंत शर्मा, बीएसएफ के अधिकारी पी.वी. सिंह, जे.के. नांगल, सहित अन्य अधिकारी और जवान उपस्थित थे।
Category: