सरकार को मिलकर घेरेंगे रामदेव-अन्ना

  • Posted on: 30 April 2012
  • By: admin

 

नई दिल्ली। भ्रष्टाचार व काले धन की वापसी को लेकर समाजसेवी अन्ना हजारे व योग गुरू बाबा रामदेव एक साथ देशव्यापी आंदोलन करेंगे। अन्ना व बाबा रामदेव ने इस मसले पर शुक्रवार को अपने आंदोलन की रणनीति की जानकारी दी। दोनों ने पहली बार एक साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस की।
अन्ना एक मई से महाराष्ट्र के शिरडी से यात्रा की शुरूआत करेंगे। अन्ना ने कहा कि वे 2014 के लोकसभा चुनाव तक लोगों को जगाएंगे। अन्ना महाराष्ट्र के 35 जिलों का दौरा करेंगे। देश में कई जगह बाबा रामदेव के साथ सभा करेंगे। अन्ना और बाबा रामदेव भ्रष्टाचार के खिलाफ तीन जून को दिल्ली में सांकेतिक उपवास करेंगे। इसके बाद भी सरकार ने बात नहीं मानी तो अगस्त से आर-पार की लड़ाई शुरू होगी।
अन्ना ने कहा, जनता की बात नहीं सुनी गई तो सरकार गिर जाएगी। हम सरकार नहीं गिराना चाहते लेकिन जनता के फायदे में सरकार गिर जाए तो परवाह नहीं। उन्होंने कहा कि आज भ्रष्टाचार के कारण लोगों का जीना मुहाल हो गया है। 
 
अन्ना ने इसे आजादी की दूसरी लड़ाई बताया। देश से गोरे गए तो काले आ गए। अन्ना ने कहा कि देश की आर्थिक नीति बदलने की जरूरत है। केंद्र में जनलोकपाल व राज्य में लोकायुक्त की जरूरत है। देश कर्ज के बोझ में दबा है। अन्ना ने कहा कि लोगों का संगठित होना जरूरी है।
उन्होंने कहा कि जनता के पैसे का दुरूपयोग हो रहा है। जनता के पैसे की 75 फीसदी राशि मैनेजमेंट में खर्च हो रही है व 25 फीसदी भ्रष्टाचार में। लोकपाल आया तो आधे मंत्री जेल में होंगे।
बाबा रामदेव ने 10 लाख करोड़ से अधिक का कोयला घोटाला होने का आरोप लगाया। उन्होंने मौजूदा सरकार को घोटालों की सरकार बताया। बाबा ने कहा कि केंद्र सरकार को सत्ता में रहने का नैतिक अधिकार नहीं है। रामदेव ने कहा कि श्री श्री रविशंकर से भी उनको आंदोलन में शामिल करने के लिए बात चल रही है। बाबा ने कहा कि घोटालों से देश का आर्थिक विकास रूक गया है। विकास दर में गिरावट आ गई है। नागरिकों को न्याय दिलवाना है तो काला धन वापिस लाना होगा।
बाबा ने इस आंदोलन को नैतिक व मौलिक अधिकारों की लड़ाई बताया। बाबा ने कहा कि उनका कोई गुप्त एजेंडा नहीं है।
Category: