सड़क निर्माण कंपनियों के कारोबार में आएगी तेजी:क्रिसिल

  • Posted on: 25 July 2018
  • By: admin
नई दिल्ली। सड़कों पर सरकार की खास तवज्जो के कारण अगले दो वर्षों में सड़क निर्माण की रफ्तार रोजाना 27 किलोमीटर से बढ़कर 32 किलोमीटर हो जाएगी। इससे सड़क बनाने वाली कंपनियों को भी फायदा होगा। उनका कारोबार सालाना 20 फीसद की दर से बढ़ेगा। रेटिंग एजेंसी क्रिसिल ने सड़क निर्माण क्षेत्र में कार्यरत 66 कंपनियों के कारोबार का अध्ययन के आधार पर यह निष्कर्ष निकाला है।
अध्ययन के मुताबिक वित्त वर्ष 2017-18 में 17,000 किलोमीटर लंबाई वाली सड़क परियोजनाओं के ठेके दिए गए। सड़क मंत्रालय और भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) को मिलाकर इतने अधिक ठेके पहले कभी नहीं दिए गए। इस दौरान रोजाना 27 किलोमीटर के हिसाब से सड़कों का निर्माण हुआ जो वित्त वर्ष 2013-14 के मुकाबले दोगुना है। यही नहीं, 2017-18 में 90 फीसद कांट्रैक्ट हाईब्रिड-एन्यूटी तथा ईपीसी मोड पर अवार्ड किए गए। क्रिसिल की मानें तो यदि सड़क निर्माण के अनुबंध इसी गति से जारी होते रहे तो 2020 तक रोजाना 32 किलोमीटर सड़कों का निर्माण होने लगेगा क्योंकि इन दिनो सरकार का ध्यान भारतमाला पर है। जिसके आधे से ज्यादा ठेके हाईब्रिड-एन्यूटी मोड के अंतर्गत दिए जाने की उम्मीद है। क्रिसिल रेटिंग्स के सीनियर डायरेक्टर सचिन गुप्ता ने कहा, इन कंपनियों के पास जितने ऑर्डर हैं, उन्हें देखते हुए हमें उम्मीद है कि इस वर्ष ही नहीं, वरन अगले दो वर्षों तक इनका कारोबार सालाना 20 फीसद की दर से बढ़ेगा। पिछले वित्त वर्ष के दौरान इन कंपनियों के पास अनुमानत: कुल 1.3 लाख करोड़ रुपये के ऑर्डर थे। यह इनकी आय का तीन गुना है। इससे 2017-18 के दौरान इनकी आय में और बढ़ोतरी का संकेत मिलता है। क्रिसिल का विश्लेषण दर्शाता है कि अगले दो वर्षों के दौरान तकरीबन 70 हजार करोड़ रुपये की हाईब्रिड-एन्यूटी परियोजनाएं अवार्ड की जाने वाली हैं। इनमें डेट और इक्विटी दोनों का समावेश होगा।
Category: