वर्ष 2019 में जलवायु परिवर्तन एक्शन प्लान तैयार किया जाएगा:विश्नोई

  • Posted on: 25 July 2019
  • By: admin
जयपुर। पर्यावरण राज्य मंत्री श्री सुखराम विश्नोई ने बुधवार को राज्य विधानसभा में बताया कि राज्य सरकार ने वर्ष 2010 में राज्य पर्यावरण नीति लागू की थी। वर्तमान सरकार द्वारा पर्यावरण विभाग का पुनर्गठन करते हुए पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन निदेशालय का गठन कर वर्ष 2019 में जलवायु परिवर्तन एक्शन प्लान तैयार किया जाएगा। विश्नोई ने प्रश्नकाल के दौरान विधायकों द्वारा पूछे गए पूरक प्रश्नों का जवाब देते हुए बताया कि यदि कहीं पर ट्यूबवैल में गंदा पानी छोड़ा जा रहा है तो उसकी जांच करवा ली जाएगी और यदि किसी स्थान पर गदंगी डाली जा रही है तो उसकी भी जांच करवाई जाएगी और कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने बताया कि राज्य के पांच शहरों कोटा, जयपुर, अलवर, जोधपुर और उदयपुर में पर्यावरण प्रदूषण रोकने के लिए एनजीटी ने 8 अक्टूबर, 2018 को निर्देश दिए गए थे। इसकी पालना में 31 दिसंबर, 2018 को राजस्थान सरकार ने केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड नई दिल्ली में प्रस्ताव प्रस्तुत किए। इसके अनुसार वाहनों से निकलने वाले धुआं, उद्योगों से निकलने वाले कचरे, नगरपालिका का ठोस कचरे और सड़कों की धूल से होने वाले पर्यावरण प्रदूषण से निपटने के लिए जगह-जगह पर वायु प्रदूषण नियंत्रक यंत्र लगाए हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पर्यावरण प्रदूषण रोकने के लिए ठोस कार्यवाही की जाएगी। 
इससे पहले विधायक श्री अर्जुन लाल जीनगर के मूल प्रश्न के जवाब में उन्होंने बताया कि प्रदेश में बढ़ती जनसंख्या बढ़ते उद्योग, कम होते वन एवं कम होते जल के कारण पर्यावरण प्रभावित हो रहा है। उन्होंने बताया कि पर्यावरण विभाग द्वारा पर्यावरण संतुलन के लिए नियमित कार्य किया जाता है। विश्नोई ने बताया कि देश की प्रदूषित नदियों की सूची में सम्मिलित राज्य की दो नदियों यथा नदी (चम्बल नदी एवं बनास नदी) की सफाई की योजना बनाई जाकर क्रियान्वित किया जाना है। उन्होंने बताया कि देश में वायु गुणवत्ता मानकों के निर्धारित सीमा से अधिक होने वाले 102 शहरों में से राज्य के पांच शहर कोटा, जयपुर, अलवर, जोधपुर, उदयपुर सम्मिलित हैं। राज्य प्रदूषण नियंत्रण मण्डल द्वारा इन शहरों की वायु गुणवत्ता सुधार के लिए कार्य योजना बनाई जाकर क्रियान्वित किया जाना है। पर्यावरण राज्य मंत्री ने बताया कि केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण मण्डल द्वारा जारी व्यापक पर्यावरण प्रदूषण सूचकांक के अन्तर्गत राज्य के नामित शहरों यथा भिवाड़ी, जोधपुर, पाली एवं जयपुर के लिए कार्य योजना बनाई गई है।
Category: