राजस्थान विधानसभाध्यक्ष ने किया प्रतिभाओं और वरिष्ठजनों का सम्मान

  • Posted on: 10 June 2019
  • By: admin
जयपुर। राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष डा. सी.पी. जोशी ने युवाओं का आह्वान किया है कि वे उपलब्ध अवसरों का पूरा-पूरा फायदा उठाते हुए अपनी प्रतिभाओं को निखारें और उच्चतम शिक्षण-प्रशिक्षण पाए तथा हुनर के माध्यम से अपने परिवार, समाज, क्षेत्र और देश का नाम रोशन करें। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सी.पी. जोशी ने यह विचार रविवार अपराह्व राजसमंद जिले के बड़ा भाणुजा गांव स्थित करधर धाम परिसर में आयोजित अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज 44 श्रेणी संस्था, मेवाड़ द्वारा आयोजित प्रतिभाओं तथा वरिष्ठ सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि पर से व्यक्त किए।
समारोह की अध्यक्षता मावली के विधायक धर्मनारायण जोशी ने की।
समारोह में विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी, मावली विधायक धर्म नारायण जोशी व सामाजिक प्रतिनिधियों ने समाज के विभिन्न प्रतिभाओं को सम्मानित किया।
राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने इस अवसर पर इन प्रतिभाओं से कहा कि वे समय की नब्ज पहचाने, सम सामयिक रफ्तार को देखें तथा अपने को प्राप्त अवसरों का पूरा-पूरा उपयोग करते हुए लाभ प्राप्त करें और अपने भविष्य को संवारे। 
डॉ. जोशी ने कहा कि सामाजिक और आर्थिक विकास के लिए आज आवश्यकता इस बात की है कि वैश्वीकरण और बहुराष्ट्रीय कंपनियों के दौर में हम अपने आप को इस तरह आगे बढ़ाएं कि हम समसामयिक चुनौतियों का सामना करते हुए आगे बढ़ सकें। 
उन्होंने कहा कि आज कई प्रकार की नई विषमताओं से भरी चुनौतियां हमारे सामने हैं जिनका मुकाबला करते हुए हमें आगे बढऩे की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि लोकतांत्रिक व्यवस्था में जो भी अवसर प्राप्त होते हैं उनका समाज को लाभ लेने के लिए आगे आना चाहिए और अब यह समझना चाहिए कि अब समय बदला हुआ है जिसमें सूचना-संचार और अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी के अनुरूप प्रतिभाओं को ढलना और अपना विकास करना होगा।
डॉ. जोशी ने कहा कि आज हमें अपने दायित्वों के प्रति जागरूक रहकर आगे बढऩा होगा और जवाबदेही तय करनी होगी। उन्होंने उपस्थितजनों से कहा कि सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमों का पूरा-पूरा लाभ लेने में आगे आए व स्वरोजगार और विकास के तमाम अवसरों से जुड़ी योजनाओं में भागीदार बनें और सामाजिक एवं आर्थिक विकास के लिए हर संभव प्रयास में निरंतर जुटे रहें। जो समाज शिक्षित और जागरुक होता है वह अवसरों का लाभ प्राप्त करता हुआ सक्षम होकर विकसित हो जाता है।  इस यथार्थ को समझने की जरूरत है। उन्होंने बच्चे-बच्चियों को पढ़ाने का आह्वान करते हुए कहा कि सभी को यह तय कर लेना चाहिए कि जब तक बेटियां अच्छी तरह पढ़-लिख नहीं जाती, तब तक उनकी शादी न कराएं। क्योंकि शिक्षित माँ होगी तो अपनी संतानों की परवरिश और शिक्षा-दीक्षा के प्रति अधिक संवेदनशील और दक्ष होगी। 
मावली विधायक धर्मनारायण जोशी ने इस अवसर पर सामाजिक मूल्यों और संस्कारों पर जोर दिया और कहा कि आज हमें अपनी जड़ों को मजबूत करते हुए विकास के नए प्रतिमान छूने के लिए आगे आने की आवश्यकता है उन्होंने समाज के संगठन और विकास के प्रति भी आवश्यक बताया।
इस अवसर पर खमनोर पंचायत समिति की प्रधान शोभा पुरोहित, खूबीलाल पालीवाल (उदयपुर) सहित समाज के गणमान्य नागरिकगण उपस्थित थे।
Category: