यूएस से भारत को कच्चे तेल के बाद गैस की सप्लाई भी शुरू

  • Posted on: 10 March 2018
  • By: admin
नई दिल्ली। कच्चे तेल के बाद संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएसए) भारत को गैस निर्यात करने वाला देश बन गया है। अमेरिका के साथ 20-वर्षीय समझौते के तहत लिक्विफाइड नैचुरल गैस (एलएनजी) की पहले खेप को ल्यूसियाना से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। सरकारी गैस कंपनी गेल इंडिया ने सालाना 35 लाख टन एलएनजी के लिए सेनियर एनर्जी की सबाइन पास लिक्विफैक्शन यूनिट से करार किया है। गेल ने एक बयान में कहा, कार्गो को गेल के पहले चार्टर्ड एलएनजी शिप मेरिडियन स्पिरिट पर लाद दिया गया है। यह एलएनजी सबाइन पास एलएनजी प्रोजेक्ट में सेनियर एनर्जी की एलएनजी एक्सपोर्ट फैसिलिटी से चल पड़ी है।
यह कार्गो 28 मार्च के करीब महाराष्ट्र स्थित दाभोल टर्मिनल में खाली किया जाएगा। गौरतलब है कि पिछले साल अक्टूबर में भारत ने अमेरिका से कधो तेल की पहली खेप आयात की थी। अमेरिका ने वर्ष 1975 में तेल निर्यात पर रोक लगा दी थी, जिसे वर्ष 2015 में तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने हटाया था। गेल ने दिसंबर 2011 में अमेरिका के एलएनजी निर्यातक सेनियर एनर्जी के साथ खरीद एवं बिक्री समझौते (एसपीए) पर हस्ताक्षर किया था। एसपीए पहली मार्च से प्रभावी हुआ है। समझौते की शर्तों के तहत गेल को सालाना 35 लाख टन एलएनजी मिलेगी। गेल के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक बी. सी. त्रिपाठी और सेनियर के सीईओ जैक फ्यूस्को की मौजूदगी में सबाइन पास में एक समारोह के बाद जहाज को पहली खेप के साथ रवाना किया गया।
अमेरिका मुक्त कारोबार का पक्षपाती-व्हाइट हाउस ने एक बयान में कहा कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का प्रशासन मुक्त, सदाचार-आधारित और परस्पर-हितों वाले कारोबार का पक्षपाती है। लेकिन अगर कारोबारी जंग की नौबत आती है, तो अमेरिका निश्चित तौर पर उसमें विजयी होने की कूवत रखता है। गौरतलब है कि ट्रंप अगले कुछ दिनों में ही स्टील उत्पादों के आयात पर 25, जबकि एल्यूमीनियम उत्पादों के आयात पर 10 फीसद आयात शुल्क लगाने वाले आदेश पर हस्ताक्षर करने वाले हैं। अमेरिका के इस फैसले पर दुनियाभर के कई देशों से तीखी प्रतिक्रिया आने के बाद सोमवार को ट्रंप ने कहा था कि अगर नॉर्थ अमेरिकन फ्री ट्रेड एग्रीमेंट के तहत नया और सदाचार-आधारित कारोबार होता है, तो वे आयात शुल्क बढ़ाने वाला फैसला वापस ले सकते हैं। नॉर्थ अमेरिकन फ्री ट्रेड एग्रीमेंट के दायरे में अमेरिका, कनाडा और मैक्सिको आते हैं।
Category: