मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने मतदान प्रतिशत बढ़ाने के साथ महिलाओं और युवाओं की अधिकाधिक भागीदारी सुनिश्चित करने के दिए निर्देश

  • Posted on: 25 October 2018
  • By: admin
जयपुर। मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार ने कहा कि विधानसभा आम चुनाव-2018 में मतदान प्रतिशत बढ़ाने के साथ महिलाओं और युवाओं की अधिकाधिक भागीदारी सुनिश्चित करने के हरसंभव प्रयास किए जाएं। इसके लिए नवाचारों के साथ स्वीप कार्यक्रमों की प्रभावी क्रियान्विति सुनिश्चित की जाए।
कुमार मंगलवार को शासन सचिवालय स्थित कॉन्फ्रेंस हॉल में प्रदेश भर के स्वीप नोडल (मुख्य कार्यकारी अधिकारी) अधिकारियों को संबोधित कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि मतदाता सूची में एक जनवरी की अहर्ता तिथि के अनुसार 18 वर्ष की आयु के पात्र युवा मतदाताओं एवं शेष रहे लोगों के नाम अभी भी जोड़े जा रहे हैं। इसके लिए कॉलेजों में जाकर ?से मतदाताओं को चिन्हित करें और उनका नाम मतदाता सूची में जुड़वाएं। उन्होंने कहा मतदान केंद्रों पर भारत निर्वाचन आयोग के नियमों के अनुसार मतदाताओं की सुविधा के लिए आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाएं। दिव्यांग मतदाताओं के चिन्हीकरण का काम नामांकन दाखिल करने की आखिरी तिथि तक जारी रखें तथा पात्र दिव्यांगजनों का नाम भी जुड़वाया जाए। मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि राज्य भर में स्कूली छात्रों से पूर्व की भांति संकल्प पत्र भरवाएं ताकि वे अपने घर के पात्र मतदाताओं को मताधिकार का प्रयोग करने के लिए प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि दिव्यांगजनों को मतदान केंद्रों पर सहयोग करने के लिए 18 वर्ष या अधिक की आयु के एनसीसी, स्काउट या एनएसएस के स्वयंसेवकों को मतदान केंद्रों पर नियोजित करें। उन्होंने कहा कि निर्वाचन से जुड़ें सभी अधिकारी पूर्ण प्रतिबद्धता के साथ काम करें ताकि लोकतंत्र के उत्सव की सार्थकता बनी रहे। प्रशिक्षण को संबोधित करते हुए अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ. जोगाराम ने कहा कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा इस चुनाव में प्रदेश में पहली बार चार कार्य किए जा रहे हैं। इसके तहत सभी मतदान केंद्रों पर एक साथ वीवीपैट मशीनों का प्रयोग, दिव्यांग मतदाताओं पर विशेष फोकस, प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में एक मतदान केंद्र को पूर्णतया महिलाओं द्वारा संचालित किया जाना तथा आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत के लिए सी-विजिल एप का प्रयोग किया जा रहा है। प्रशिक्षण के आखिर में डॉ. जोगाराम द्वारा स्वीप कार्यक्रम पर प्रस्तुतिकरण के साथ ही जिलों में स्वीप गतिविधियों की समीक्षा भी की। प्रशिक्षण की शुरुआत उप मुख्य अधिकारी श्री विनोद पारीक ने मुख्य कार्यकारी अधिकारी, जिला परिषद से इलेक्टोरल लिटरेसी क्लब (ईएलसी) स्थापित करने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि स्वीप कार्यक्रम में गैर राजनीतिक लोगों को जोड़ा जाए, ईवीएम-वीवीपैट के लिए जिला स्तर पर आवश्यक हो तो एक और प्रशिक्षण आयोजित करवाया जाए। प्रशिक्षण में सीईओ जिला परिषद अजमेर अरुण गर्ग, राष्ट्रीय स्तर मास्टर ट्रेनर सुधांशु जैन तथा मुख्यालय स्थित स्वीप प्रकोष्ठ के श्री अशोक पारीक ने प्रस्तुतिकरण के माध्यम से स्वीप कार्यक्रम को प्रभावी तरीके से क्रियान्वित करने की जानकारी दी। जिला स्तर पर चित्तौडग़ढ़, डूंगरपुर, राजसमंद तथा हनुमानगढ़ से आए अधिकारियों ने अपने-अपने जिलों में स्वीप गतिविधयों की जानकारी प्रदान की।
इस अवसर पर संयुक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी (आईटी) श्री एमएम तिवारी ने चुनावों के दौरान काम में आने वाली आईटी एप्लीकेशंस के बारे में जानकारी दी। इससे पहले मुख्य निर्वाचन अधिकारी जिला मतदाता शिक्षा कमेटी, अजमेर द्वारा तैयार की गई 'मतदाता प्रवाह' पुस्तिका तथा मतदाता जागरुकता के लिए एक रिंगटोन का लोकार्पण भी किया।
Category: