प्रात: 8 से 11 बजे होंगी बालसभाएं, नि:शुल्क पाठ्यपुस्तकों का भी होगा वितरण

  • Posted on: 25 April 2019
  • By: admin
जयपुर। प्रदेश के राजकीय विद्यालयों में आगामी 9 मई को प्रात: 8 से 11 बजे के मध्य बालसभाओं का आयोजन किया जाएगा। बालसभाओं के आयोजन के लिए मुख्य जिला शिक्षा अधिकारियों को जिला स्तर पर समन्वय रखते हुए कार्य करने के निर्देश दिए गए हैं। राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद् के आयुक्त श्री प्रदीप कुमार बोरड़ ने बताया कि विद्यालयी बालसभाएं अब माह में तीन बार आयोजित की जाएगी।
इसमें एक बालसभा माह में पडऩे वाली अमावस्या को तथा अन्य दो बालसभाएं अमावस्या के आगे-पीछे आने वाले शनिवार को छोड़ते हुए अन्य दो शनिवार को आयोजित होगी। ये बालसभाएं गावं, वास, स्थान के सार्वजनिक स्थल पर आयोजित की जायेगी। उन्होंने बताया कि विद्यालयों द्वारा बालसभाओं हेतु विद्यार्थियों के माध्यम से उनके अभिभावकों एवं ग्रामीणों को आमन्त्रण पत्र भेजे जाएंगे। आमन्त्रण के लिये परम्परागत तरीके से पीले चावल भी भेजे जाएंगे। वृहद् स्तर पर आयोजित की जाने वाली बालसभाओं की कार्य योजना तैयार करने हेतु समस्त मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी अपने अधीनस्थों एवं सम्बन्धित जिले के अन्य विभागों यथा-चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के सीएमचओ, बीसीएमचओ, एमओ तथा महिला एवं बाल विकास विभाग के डीडी, सीडीपीओ, एसीडीपीओ, महिला पर्यवेक्षकों के साथ समुचित समन्वय हेतु जिला स्तर की संयुक्त बैठक आगामी 2-3 दिन में करके इसको विस्तृत प्लान तैयार करेंगे। बोरड़ ने बताया कि जिले की प्राथमिक से उच्च माध्यमिक स्तर तक की प्रत्येक स्कूल के लिए बालसभा हेतु प्रभारी अधिकारी नियुक्त किया जा रहा है। बाल सभा हेतु नियुक्त प्रभारी अधिकारी विद्यालय में संस्था प्रधान तथा स्टाफ सदस्यों के साथ पारस्परिक विमर्श उपरान्त बालसभा आयोजन को भव्य स्वरूप प्रदान करने तथा इसके प्रभावी आयोजन हेतु अग्रिम कार्य योजना निर्मित करेंगे। राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद् के आयुक्त श्री बोरड़ ने बताया कि राज्य के सभी जिलों में 9 मई को वृहद बालसभाओं के प्रभावी आयोजन के लिए समस्त मुख्य जिला शिक्षा अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि जिले के समस्त विभागों के अधिकारियों की सूची जिला प्रशासन से प्राप्त कर उनके साथ समुचित समन्वय एवं सम्पर्क स्थापित करें। उन्होंने बताया कि अन्य विभागों के अधिकारियों को बालसभाओं के लिए किसी एक स्कूल का प्रभारी अधिकारी नियुक्त किये जाने की कार्यवाही करने के साथ ही मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी अन्य विभागों के साथ समन्वय स्थापित कर बालसभाओं के आयोजन एवं उनमें अधिकाधिक जन भागीदारी सुनिश्चित करेंगे। बोरड़ ने बताया कि बालसभाओं के आयेाजन के दौरान प्रत्येक कक्षा में प्रथम तीन स्थान प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों एवं विभिन्न पाठ्यक्रम सहगामी प्रवृत्तियों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले बालक-बालिकाओं को पुरस्कृत भी किया जाएगा। बालसभाओं के आयोजन के बाद विद्यार्थियों को उसी दिन नि:शुल्क पाठ्यपुस्तकों का वितरण भी किया जाएगा। उन्होंने बताया कि शिक्षा विभाग की पत्रिका शिविरा का मई-जून संयुक्तांक 'बालसभा विशेषांकÓ रूप में प्रकाशित किया जाएगा।
Category: