पोषाहार सामग्री वितरण हेतु बजट की उपलब्धता पर पोस मशीन लगाना प्रस्तावित:भूपेश

  • Posted on: 25 July 2019
  • By: admin
जयपुर। महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री श्रीमती ममता भूपेश ने विधानसभा में आश्वस्त किया कि पोषाहार सामग्री वितरण करने हेतु आने वाले समय में बजट की उपलब्धता के आधार पर प्रदेश के सभी परियोजना क्षेत्रों मेे पोस मशीन लगाया जाना प्रस्तावित है। श्रीमती भूपेश प्रश्नकाल में विधायकों की ओर से पूछे गए पूरक प्रश्नों का जवाब दे रही थी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में शून्य से 6 वर्ष के बच्चों, धात्री, माताओं,
किशोरियों एवं गर्भवती महिलाओं को पोषाहार वितरण व्यवस्था को लेकर मुख्यमंत्री भी चिन्तित है और इसी को ध्यान में रखते हुए एक पायलेट प्रोजेक्ट के तहत 400 परियोजना क्षेत्रों में पोषाहार वितरण के लिए पोस मशीन लगाने की बजट में घोषणा की है। उन्होंने कहा कि इससे पोषाहार वितरण में अनियमितताओं पर रोक लगने के साथ समय पर पोषहार सामग्री वितरित होगी। उन्होंने यह भी बताया कि चिकित्सा विभाग से प्राप्त सेनेटरी नेपकीन का विभाग की आंगनबाड़ी कार्यकत्र्ताओं, आशा सहयोगिनी एवं सहायिकाओं द्वारा गांव-गांव जाकर महिलाओं को वितरण किया जाता है। इससे पहले विधायक श्री अमृत लाल मीना के मूल प्रश्न के जवाब में श्रीमती भूपेश ने बताया कि समेकित बाल विकास सेवा योजनान्तर्गत आंगनबाडी केन्द्रों के माध्यम से 6 माह से 6 वर्ष तक के बच्चों, गर्भवती एवं धात्री माताओं तथा 11 से 14 वर्ष की स्कूल नहीं जाने वाली बालिकाओं को स्थानीय स्तर पर महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा उत्पादित पौष्टिक पूरक पोषाहार दिया जाता है। उन्होंने आंगनबाड़ी केन्द्रों पर वितरित किये जा रहे पूरक पोषाहार का विवरण सदन की मेज पर रखा। उन्होंने बताया कि विधानसभा क्षेत्र सलूम्बर में 467 आंगनबाड़ी केन्द्र है। उन्होंने विधानसभा क्षेत्र सलूम्बर के अधीन पंचायत समितिवार आंगनबाड़ी केन्द्रों की संख्या का विवरण सदन के पटल पर रखा। श्रीमती भूपेश ने बताया कि विधानसभा क्षेत्र सलूम्बर के अन्तर्गत आंगनबाडी केन्द्रों पर 104 महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा गर्भवती एवं धात्री महिलाओं तथा 6 माह से 3 वर्ष आयु वर्ग के बच्चों को टेकहोम राशन उपलब्ध करवाया जा रहा है। साथ ही 467 महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा 3 वर्ष से 6 वर्ष आयु वर्ग के बच्चों को गर्म पूरक पोषाहार उपलब्ध करवाया जा रहा है।
 
Category: