पासवर्ड से मिलेगा छुटकारा, ऐसे और आसान होगा काम

  • Posted on: 10 February 2019
  • By: admin
डिजिटल ट्रांजेक्शन की बढ़ती संख्या के साथ ही साल में बढ़ी साइबर धोखाधडिय़ों की संख्या में भी इजाफा हुआ है। साइबर सुरक्षा को और चाकचौबंद बनाने के लिए कई स्तरों पर प्रयास किए जा रहे हैं। टेक्नोलॉजी इस तरह बदल रही है कि अब वह समय दूर नहीं जब जब फिंगर प्रिंट, चेहरे और आंख की पुतली की मदद से ही आप ऑनलाइन पेमेंट जैसे काम कर पाएंगे। अब ट्रांजेक्शंस में पासवर्ड का जाना तय है क्योंकि इनसे तमाम समस्याएं जुड़ी हुई हैं। ऑनलाइन ट्रांजेक्शन करते वक्त एक नई विंडो पॉप-अप होती है, जो काफी असुविधानक है। अब नई टेक्नोलॉजी इन परेशानियों को दूर कर देंगी।
मोबाइल की सिक्योरिटी
आज के समय में सिक्योरिटी फीचर फोन यूजर्स के लिए सबसे अहम फीचर्स की लिस्ट में शामिल है। जब से मोबाइल फोन का उदय हुआ है तब से अब तक फोन को लॉक करने का तरीके काफी बदल चुका है।
इससे पहले आपको हम बायोमेट्रिक और नॉन बायोमेट्रिक में अंतर जान लें। बायोमेट्रिक में फिंगरप्रिंट स्कैनर, आइरिस स्कैनर, फेशियल रिकॉग्निशन जैसे सिक्योरिटी फीचर आते हैं, जिसमें आप ही फोन पासवर्ड होते हैं। इसके अलावा नॉन बायोमेट्रिक में पिन व पासवर्ड आता है। आज के दौर के मोबाइल किसी न किसी तरह से बायोमेट्रिक आइडेंटिफिकेशन क्षमता से लैस हैं। दरअसल यह एक दौर की शुरुआत है, जिसका पहला कदम फोन हैं। 3ष्ठ सिक्योर टेक्नोलॉजी अपने दूसरे पड़ाव पर है और बदलाव दिखना शुरू हो चुके हैं।
बायोमेट्रिक कार्ड की शुरूआत 
अमेरिका की कार्ड कंपनी मास्टरकार्ड ने नए बायोमेट्रिक कार्ड की शुरूआत की है, जिसमें लगे चिप और अंगुलियों के निशान के जरिए किसी भी स्टोर पर सामान खरीदते समय कार्डधारक की पहचान की पुष्टि की जा सकती है।
यह बड़ा कदम इसलिए है कि तमाम फाइनेंशियल इंस्टिट्यूशंस जो मास्टरकार्ड से जुडऩा चाहेंगे उन्हें अपने कस्टमर्स के लिए बायोमेट्रिक वेरीफिकेशन का इंतजाम करना होगा। मास्टरकार्ड की राह पर दूसरी कार्ड कंपनियों को चलना ही पड़ेगा और इससे काफी बड़ा वर्ग इस सुविधा का लाभ लेगा।
यूजर एक्सपीरियंस में बदलाव
यूजर को आज ट्रांजेक्शन पूरा करने में कम से कम तीन से चार पासवर्ड या ओटीपी से जूझना पड़ता है। इसमें समय ज्यादा लगता है और साथ ही ट्रांजेक्शन फेल होने की संभावना भी बढ़ जाती है। बायोमेट्रिक आइंडेंटिफिकेशन की एडवांस स्टेज पर पहुंचते ही ऑनलाइन खरीदारी का एक्सपीरियंस एक यूजर के लिए पूरी तरह बदल जाएगा। जब आप फिंगर प्रिंट सेंसर को छूकर कैमरे को अपने चेहरे की तरफ करके तुरंत ट्रांजेक्शन करेंगे या पैसे भेजेंगे तो यह अलग ही अनुभव होगा। यहां पासवर्ड याद रखने और उसको बदलते रहने की टेंशन से छुटकारा मिलेगा।
Category: