डांस थेरेपिस्ट बनकर थिरकते कदमों के जरिए करें उपचार

  • Posted on: 10 April 2019
  • By: admin
एक डांस थेरेपिस्ट का मुख्य काम डांस थेरेपी का इस्तेमाल करके शरीर को पूर्ण रूप से तनावमुक्त करते हैं। वह व्यक्ति की आवश्यकता को समझते हुए उन्हें कुछ ऐसे मूवमेंट बताता है, जिससे उसे यकीनन फायदा पहुंचता है। आमतौर पर डांस व म्यूजिक को एंटरटेनमेंट इंडस्टी से जोड़कर देखा जाता है, लेकिन यह महज मनोरंजन प्रदान करने और क्षेत्रीय संस्कृति को बढ़ावा देने तक ही सीमित नहीं है।
इसका हर व्यक्ति के साथ एक अलग ही भावनात्मक जुड़ाव होता है और इसलिए आज के समय में संगीत और नृत्य को कई तरह की बीमारियों के उपचार के लिए इस्तेमाल किया जाता है। अगर आप भी चाहें तो बतौर डांस थेरेपिस्ट बनकर लोगों को रोगमुक्त करने में अपनी सक्रिय भूमिका निभा सकते हैं और एक शानदार कॅरियर बना सकते हैं।
क्या होता है काम-एक डांस थेरेपिस्ट का मुख्य काम डांस थेरेपी का इस्तेमाल करके शरीर को पूर्ण रूप से तनावमुक्त करते हैं। वह व्यक्ति की आवश्यकता को समझते हुए उन्हें कुछ ऐसे मूवमेंट बताता है, जिससे उसे यकीनन फायदा पहुंचता है। दूसरे शब्दों में, एक प्रोफेशनल डांस थेरेपिस्ट पेंशेट का स्वास्थ्य डांस स्टेप और मूवमेंट के जरिए सुधारता है। हालांकि डांस का प्रकार कोई भी हो सकता है।
एक डांस थेरेपिस्ट व्यक्ति में अच्छे कम्युनिकेशन स्किल्स से लेकर सामाजिक व्यवहार संबंधी परेशानियों को दूर करने में अहम भूमिका निभा सकता है। 
स्किल्स-इस क्षेत्र में कॅरियर देख रहे छात्रों में अपने काम के प्रति लगाव व दूसरों की मदद करने की चाह होनी चाहिए। यह क्षेत्र यकीनन काफी मजेदार है, लेकिन इसमें आपको शारीरिक रूप से भी मेहनत करनी पड़ती है, इसलिए आपको उसके लिए तैयार रहना पड़ेगा। काम के दौरान आपको कई तरह के क्लाइंट्स से मिलकर उनकी समस्या को सुनना होगा और उसी के अनुरूप अपना काम करना होगा, इसलिए बेहतर कम्युनिकेशन स्किल भी इस क्षेत्र की एक डिमांड है।
योग्यता-एक डांस थेरेपिस्ट बनने के लिए सबसे पहले आपको डांस के अलग-अलग प्रकार की व्यापक जानकारी होनी चाहिए। आजकल कुछ संस्थान डांस थेरेपी में सर्टिफिकेट व डिप्लोमा कोर्स करवाते हैं, आप उन कोर्स को कर सकते हैं लेकिन उसके लिए पहले आपके पास बैचलर डिग्री होनी जरूरी है। 
संभावनाएं-डांस थेरेपिस्ट का कोर्स करने के बाद व्यक्ति के पास काम की कोई कमी नहीं होती। आप विभिन्न एनजीओ से लेकर स्पेशल स्कूल्स, अस्पताल, नशा मुक्ति केन्द्र, वृद्धाश्रम, शिक्षण संस्थान यहां तक कि जेल में भी अपनी सेवाएं दे सकते हैं। एक डांस थेरेपिस्ट विभिन्न मेंटली व फिजिकली चैलेंज व्यस्क, स्पेशल जरूरतों वाले बच्चों तथा महिलाओं के साथ काम करता है। वैसे आप चाहें तो खुद भी सेंटर खोलकर लोगों की मदद कर सकते हैं।
आमदनी
अगर आमदनी की बात की जाए तो इस क्षेत्र में आमदनी से ज्यादा व्यक्ति दूसरों की मदद करके सुख का अनुभव करता है। वैसे डांस थेरेपी में मास्टर की डिग्री प्राप्त करने के बाद व्यक्ति सालाना 25 से 30 लाख रूपए आसानी से कमा सकता है। 
प्रमुख संस्थान-वुमन्स क्रिश्चियन कॉलेज, चेन्नई
सिंबोसिस स्कूल फॉर लिबरल आर्टस, पुणे
क्रिएटिव मूवमेंट थेरेपी एसोसिएशन इन इंडिया, दिल्ली
टाटा इंस्टीटयूट ऑफ सोशल साइंस, मुंबई
सृष्टि सेंटर ऑफ परफार्मिंग आर्ट्स एंड इंस्टीट्यूट ऑफ डांस थेरेपी, दिल्ली
Category: