ठाकरे स्मारक के बहाने एक साथ आए देवेंद्र फड़णवीस और उद्धव ठाकरे

  • Posted on: 25 January 2019
  • By: admin

मुम्बई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस और शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे, शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे के स्मारक के निर्माण की शुरूआत के लिए बुधवार को आयोजित वास्तु पूजन कार्यक्रम में संयुक्त रूप से शामिल हुए। भाजपा और उसकी सहयोगी शिवसेना के संबंधों में खटास है और शिवसेना ने कई मौकों पर सरकार की विभिन्न नीतियों की आलोचना की है, ऐसे में दोनों नेताओं का साथ-साथ कार्यक्रम में शिरकत करना मायने रखता है।
शिवसेना केंद्र और महाराष्ट्र में भाजपा की सहयोगी पार्टी है। महाराष्ट्र कैबिनेट ने मंगलवार को ठाकरे स्मारक के लिए 100 करोड़ रुपये मंजूर किये थे। इस कदम को लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा द्वारा अपनी सहयोगी शिवसेना तक पहुंच बनाने के प्रयास के तौर पर देखा जा रहा है। बाल ठाकरे की 93वीं जयंती के मौके पर बुधवार को फडणवीस और ठाकरे ने मध्य मुम्बई के दादर स्थित शिवाजी पार्क में स्मारक स्थल पर संयुक्त रूप से गणेश पूजन और वास्तु पूजन किया। कार्यक्रम में स्मारक के लिए चिह्नित जमीन को शहरी निकाय द्वारा आधिकारिक रूप से उस ट्रस्ट को हस्तांरित किया गया जिसका गठन ढांचे के निर्माण की देखरेख करने के लिए किया गया है। समुद्र के पास स्थित इस सम्पत्ति का निर्माण 1928 में किया गया था और इसका क्षेत्रफल करीब 11500 वर्ग मीटर है और वर्तमान में यह मुम्बई के महापौर का बंगला है। इस कार्यक्रम में भाजपा और शिवसेना के कई नेता मौजूद थे। इसमें शहर के महापौर विश्वनाथ महादेश्वर, बृहन्मुम्बई महानगर पालिका (बीएमसी) प्रमुख अजय मेहता और भाजपा सांसद पूनम महाजन सहित बालासाहेब ठाकरे राष्ट्रीय स्मारक न्यास के सदस्य भी शामिल थे। इस मौके पर फड़णवीस और ठाकरे दोनों को हाथ मिलाते देखा गया। कार्यक्रम में मौजूद शिवसेना के एक नेता ने कहा कि दोनों नेताओं के बीच चाय पर एक संक्षिप्त बैठक हुई। उन्होंने कहा, ''यद्यपि इसमें कोई राजनीतिक चर्चा नहीं हुई।" उन्होंने कहा, ''मुख्यमंत्री और भाजपा के अन्य नेता उद्धवजी और उनके परिवार की मौजूदगी में बहुत सहज थे। ऐसा नहीं लग रहा था कि यह ऐसा कार्यक्रम है जिसमें दोनों पार्टियों के नेता मौजूद हों बल्कि (ऐसा प्रतीत हुआ कि) यह एक परिवार के सदस्यों का कार्यक्रम हो।" परियोजना के लिए निर्धारित जमीन को सौंपने का तौर तरीका पूरे होने के साथ ही स्मारक का निर्माण अगले महीने से शुरू होने की उम्मीद है। एक सूत्र ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को औपचारिक भूमि पूजन के लिए आमंत्रित किये जाने की उम्मीद है। शिवसेना ने गत वर्ष भविष्य के चुनाव अकेले लडऩे की घोषणा की थी और पार्टी के एक नेता ने मंगलवार को कहा कि राज्य सरकार द्वारा ठाकरे स्मारक के लिए धनराशि मंजूर करने के निर्णय का आगामी चुनाव के लिए गठबंधन की संभावनाओं पर कोई असर नहीं होगा। इस बीच, शिवसेना ने 'सामना' में प्रकाशित एक संपादकीय में भाजपा पर निशाना साधना जारी रखा और कहा कि बाल ठाकरे का विचार था कि केवल 'हिंदुत्वÓ ही देश को बचा सकता है और उनके इस विचार के चलते भाजपा सत्ता में आयी।

Category: