टेक्नोलॉजी क्षेत्र में अगले साल मिलेंगी बेशुमार नौकरियां

  • Posted on: 25 November 2018
  • By: admin
नई दिल्ली। आइटी, ऑटोमोटिव, ट्रैवल और हॉस्पिटैलिटी क्षेत्रों में रोजगार के बेहतर अवसरों के कारण चार साल के अंतराल के बाद 2019 में बहाली की उम्मीद काफी मजबूत है। गुरुवार को जारी इंडिया स्किल्स रिपोर्ट के मुताबिक बहाली को लेकर करीब 64 फीसद कंपनियों का रुख सकारात्मक है। 20 फीसद कंपनियों ने कहा कि अगले साल भी वे 2018 जितनी संख्या में ही बहाली करेंगी।
कुछ ही कंपनियों ने 2019 में बहाली को लेकर नकारात्मक रुख का इजहार किया। रिपोर्ट में कहा गया कि बहाली की संख्या हालांकि 2010-11 के स्तर पर नहीं पहुंच पाएगी, फिर भी स्थिति पिछले 2-3 साल से बेहतर रहेगी। 
एचआर सॉल्यूशंस और एचआर तकनीक कंपनी पीपुलस्ट्रांग के सह-संस्थापक और सीईओ पंकज बंसल ने कहा कि यह देखना उत्साहवर्धक है कि बहाली की संभावना सकारात्मक है। यह देखना और भी उत्साहवर्धक है कि तकनीक क्षेत्र में बेशुमार नौकरियों के द्वार फिर से खुल रहे हैं। बहाली की संभावना में बढ़ोतरी सिर्फ एक निश्चित आकार के संगठनों तक सीमित नहीं है, बल्कि विभिन्न आकार और क्षेत्र की कंपनियों में भी यही स्थिति दिख रही है।
रिपोर्ट के मुताबिक अगले वर्ष तकनीक क्षेत्र में बहाली फिर से काफी अधिक होने वाली है। इस क्षेत्र में डिजाइन और एनालिटिक्स में सर्वाधिक नौकरी मिलने की आशा है। आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआइ) और मशीन लर्निंग जैसी विशेष टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में भी नौकरियों की मांग बढऩे की उम्मीद है।
इंडिया स्किल्स रिपोर्ट 2019 भारतीय उद्योग परिसंघ, पीपुलस्ट्रांग, वीबॉक्स, यूएनडीपी, एआइसीटीई और एआइयू जैसे संस्थानों की संयुक्त पहल है। रिपोर्ट में कहा गया है कि 2019 में होने वाली सभी नई नियुक्तियों में 15-20 फीसद नियुक्ति महिला कर्मचारियों की होगी। साथ ही महिलाओं की रोजगार कुशलता पिछले साल के 38 फीसद से बढ़कर 46 फीसद पर पहुंच गई है।
भारतीयों में बढ़ी रोजगार कुशलता, इंजीनियर सबसे ज्यादा योग्य मुंबई-देश में रोजगार कुशल आबादी का हिस्सा बढ़कर 47 फीसद पर पहुंच गया है, जो पिछले साल के मुकाबले 2-3 फीसद अंक अधिक है। साथ ही इंजीनियर सबसे अधिक रोजगार कुशल वर्ग बनकर उभरे हैं। इंडिया स्किल्स रिपोर्ट के मुताबिक पिछले पांच साल में देश की रोजगार कुशल आबादी का हिस्सा 14 फीसद अंक बढ़ा है, जो 2014 में 33 फीसद था। फाइनल इयर इंजीनियरिंग ग्रैजुएट में से करीब 57 फीसद रोजगार कुशल पाए गए, जो पिछले साल के मुकाबले पांच फीसद अंक अधिक है।
Category: