जयपुर के अल्बर्ट हॉल संग्रहालय ने विदेशों तक छोड़ी है छाप

  • Posted on: 25 April 2019
  • By: admin
जयपुर। जयपुर में अद्वितीय शिल्पकारी, स्थापत्य और एंटीक वस्तुओं से देसी-विदेशी पर्यटकों को रोमांचित करने वाले अल्बर्ट हॉल संग्रहालय ने अपनी छाप विदेशों तक छोड़ी है। जयपुर आने वाला पर्यटक इस संग्रहालय को देखने जरूर आता है। इसके अतिरिक्त संग्रहालय के तहखाने में इजिप्ट की तूतू नामक महिला की ममी रखी हुई है। यह ममी करीब 2 हजार 300 साल पुरानी है, जिसे वर्ष 1887 के समय संग्रहालय में प्रदर्शित किया गया था।
जब ममी को जयपुर लाया गया था, तब ममी के साथ करीब 399 ऑब्जेक्टस भी साथ लाए गए थे। जिन्हें करीब 130 सालों के बाद वर्ष 2017 में ममी के साथ प्रदर्शित किया गया था। यानि कहा जाए तो इतने सालों के इंतजार के बाद ममी को अपने साथ लाए ऑब्जेक्टस का साथ मिला। देशी-विदेशी पर्यटकों का मानना है कि संग्रहालय में प्रदर्शित ममी किसी विरासत से कम नहीं है।
सालों पहले चप्पल, कीड़े साथ लाई थी ममी
पुरातत्व विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जब इजिप्ट की ममी को जयपुर लाया गया था, तब ममी के साथ मैकअप बॉक्स, ताबीज, दर्पण, सिम्बोलिक कीड़े, कांच की बोतलें, मणकों की मालाएं, चप्पल, कीड़े सहित करीब 399 ऑब्जेक्टस साथ लाए गए थे। जिनमें से करीब 200 ऑब्जेक्टस को ममी के साथ तहखाने में प्रदर्शित किया गया है। इसमें इजिप्ट के देवी-देवताओं की मूर्तियां भी शामिल हैं।
मैकअप बॉक्स के अलावा नहीं पड़ी ट्रीटमेंट की जरूरत
अल्बर्ट हॉल म्यूजियम प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार ममी के मैकअप बॉक्स के अलावा ताबीज, दर्पण, सिम्बोलिक कीड़े, चप्पल सहित अन्य दुर्लभ ऑब्जेक्टस को ट्रीटमेंट की जरूरत नहीं पड़ी। इन सभी ऑब्जेक्टस को सालों बाद ममी के साथ तहखाने में प्रदर्शित किया गया।
अल्बर्ट हॉल संग्रहालय के अधीक्षक डॉ.राकेश छोलक का कहना है कि 2 हजार 300 साल पुरानी इजिप्ट की ममी देशी-विदेशी पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र है। सालों बाद ममी को उसके साथ लाए गए ऑब्जेक्टस को प्रदर्शित किया गया था।
Category: