चीन के साथ बढ़ते व्यापार घाटे का समाधान खोजने की जरूरत: सुषमा

  • Posted on: 25 December 2018
  • By: admin
नई दिल्ली। भारत ने कहा कि चीन के साथ बढ़ते व्यापार घाटे को पाटने के लिये समाधान खोजने की जरूरत है। हालांकि भारत ने दोनों देशों के बीच बढ़ते आपसी व्यापार तथा निवेश संबंधों पर संतोष भी जाहिर किया। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने चीन के विदेश मंत्री वांग यी के साथ विभिन्न मुद्दों पर बातचीत के बाद भारतीय माल एवं सेवाओं के लिये बाजार मुहैया कराने में चीन से सहयोग मिलने की उम्मीद जाहिर की।
भारत और चीन का द्विपक्षीय व्यापार सालाना 18.63 प्रतिशत की दर से बढ़ रहा है और पिछले साल यह 84.44 अरब डॉलर के ऐतिहासिक उच्च स्तर पर पहुंच गया। हालांकि इस दौरान भारत का व्यापार घाटा भी 51.75 अरब डॉलर पर पहुंच गया था। सुषमा ने वांग की उपस्थिति में जारी बयान में कहा, ''हमारे द्विपक्षीय आर्थिक संबंध अच्छे से आगे बढ़े हैं। जहां हमारे द्विपक्षीय संबंध बढ़ रहे हैं, हमें बढ़ते व्यापार घाटे का सावधानी से समाधान भी खोजने की जरूरत है।"
सुषमा ने इस मौके पर हालिया समय में इस दिक्कत को दूर करने के लिये चीन द्वारा उठाये गये कदमों के लिये चीनी पक्ष को धन्यवाद भी कहा। 
उन्होंने कहा, ''हमारा भरोसा है कि हमें चीनी पक्ष से लगातार समर्थन मिलता रहेगा ताकि हम टिकाऊ एवं संतुलित तरीके से व्यापार को बढ़ा सकें।"
Category: