चंदा कोचर पर लटकी तलवार, जानें कौन होगा आईसीआईसीआई बैंक का नया सीईओ

  • Posted on: 25 April 2018
  • By: admin
नई दिल्ली। आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ चंदा कोचर पर पद छोडऩे का दबाव बढ़ता जा रहा है। ऐसे में यह सवाल उठने लगा है कि यदि उन्हें हटाया गया या उन्होंने अपना कार्यकाल 21 मार्च 2019 को पूरा होने से पहले पद छोड़ दिया, तो बैंक का अंतरिम सीईओ किसे बनाया जाएगा। यह सवाल इसलिए उठ रहा है क्योंकि वीडियोकॉन ग्रुप को दिए गए लोन मामले में बैंक बोर्ड के कुछ निदेशकों ने कोचर के पद पर बने रहने को लेकर सवाल उठाए थे।
चंदा कोचर के उत्तराधिकारी के रुप में कई नाम सामने आए हैं। आईसीआईसीआई हमेशा से ही ऐसे बैंकों में शुमार रहा है, जिसमें बेंच स्ट्रेन्थ की कभी कमी नहीं रही है। बैंक से अगर कोई भी वरिष्ठ पेशेवर अपना पद छोड़कर जाता था, तो उस स्थिति से निपटने के लिए हमेशा से ही दो या अधिक अनुभवी अधिकारी बैंक में पहले से तैयार होते थे, जो उस जिम्मेदारी का अच्छे से निर्वहन करने में सक्षम माने जाते थे।
हमेशा बिना किसी कठिनाई के बैंक के अधिकारी उत्तरदायित्व को लेने के लिए तैयार होते थे। तेजी से बढ़ रहे वित्तीय सेवा उद्योग के लिए आईसीआईसीआई को अक्सर 'सीईओ फैक्ट्री' का टैग दिया जाता रहा है। एक बार फिर से बैंक की टॉप लीडरशिप चर्चा का विषय है, लेकिन इस बार नकारात्मक कारणों से। फिलहाल चंदा कोचर को लेकर आईसीआईसीआई बैंक के बारे में चर्चा हो रही है। भले ही बैंक प्रबंधन का एक हिस्सा कोचर का समर्थन कर रहा है, लेकिन निदेशन मंडल के कुछ सदस्य कोचर को उनके पद पर नहीं बने रहने देना चाहते हैं।
कोचर ने छोड़ा पद तो ये हो सकते हैं दावेदार
अगर बैंक के सीनियर मैनेजमेंट लेवल को देखा जाए, तो करीब आधा दर्जन ऐसे काबिल कर्मचारी हैं, जो चंदा कोचर की जगह ले सकते हैं। उनमें प्रमुख नाम है संदीप बख्शी (57), जो कि ग्रुप में सबसे ज्यादा वरिष्ठ हैं। वो मौजूदा समय में बैंक के लाइफ इंश्योरेंस वेंचर, आईसीआईसीआई प्रुडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस के मुखिया हैं।
विशाखा मुल्ये एक और अनुभवी बैंकिंग पेशेवर है। वो वर्तमान में थोक बैंकिंग के प्रमुख के रूप में बैंक के कार्यकारी निदेशक हैं। उन्हें रणनीति बनाने में, कोषागार और स्ट्रक्चर्ड फाइनेंस क्षेत्र से जुड़ा व्यापक अनुभव है। अनूप बागची बैंक के वरिष्ठ प्रबंधन में एक नया नाम है।
 
Category: