गैर-बराबरी की बढ़ती खाई

  • Posted on: 25 January 2019
  • By: admin

दावोस में विश्व आर्थिक फोरम की सालाना बैठक फिर हो रही है। उस से ठीक पहले ऑक्सफैम ने अपनी रिपोर्ट जारी कर दुनिया का ध्यान अमीरों और गरीबों में बढ़ते फासले की ओर खींचा है। ऑक्सफेम पिछले कई वर्षों से इस मौके पर ऐसी  रिपोर्ट जारी करता रहा है। ताजा रिपोर्ट में कहा गया है कि 2018 में मात्र 26 लोगों के पास उतनी संपत्ति थी, जितनी दुनिया के कुल 3.8 अरब गरीब लोगों के पास है।
यह आंकड़ा स्विस बैंक क्रेडिट सुइस और फोर्ब्स पत्रिका की दुनिया के सबसे रईस लोगों की सूची के आधार पर तैयार किया गया है। ऑक्सफेम की रिपोर्ट के अनुसार इन 26 लोगों की दौलत प्रति दिन औसतन ढाई अरब डॉलर की दर से बढ़ रही है। ऑक्सफैम के में कहा गया कि यह गैर-बराबरी अस्वीकार्य है। इस गैर-बराबरी की सबसे बड़ी शिकार संभवत: महिलाएं हैं। एक तरफ कंपनियां और रईस कम टैक्स का फायदा उठा रहे हैं, वहीं लाखों लडकियां शिक्षा के अधिकार से महरूम रहती हैं। महिलाएं मातृत्व में देखभाल के अभाव से जान गंवा रही हैं। ताजा रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर दुनिया के सबसे रईस एक फीसदी लोगों की संपत्ति पर मात्र 0.5 फीसदी ज्यादा टैक्स लगा दिया जाए, तो इससे उतना धन मिल सकता है। इससे लाखों गरीब बच्चियां स्कूल जा सकेंगी। लाखों महिलाओं को स्वास्थ्य संबंधी सुविधाएं मिल सकेंगी। इसके लिए सरकारों को सुनिश्चित करना होगा कि बड़ी कंपनियां और धनी लोग अपने हिस्से का कर चुकाएं। फिर इस कर का लड़कियों और महिलाओं के कल्याण के लिए सही तरह से निवेश किया जा सके। उनका कहना है कि दावोस में मिलने वाले लोगों के पास वह ताकत है कि वे दुनिया में फैलती इस असमानता का अंत कर सकें। गैर-बराबरी के खिलाफ सक्रिय कार्यकर्ताओं की दलील है कि इस समस्या का समाधान है। ऐसी नीतियां अपनाई जा सकती हैं, जिनसे विषमता घटे। ऑक्सफैम ने अपनी रिपोर्ट में सुझाया है कि महिलाएं अपनी जिंदगी के जो लाखों घंटे बिना किसी मेहनताने के घर के काम करती हैं, परिवार का ध्यान रखती हैं। उसकी ओर ध्यान दिया जाना चाहिए। महिलाओं को बजट से जुड़े फैसलों में हिस्सेदार बनाया जाए। साथ ही सरकारों को सलाह दी गई है कि बिजली, पानी और बच्चों की देखभाल पर ज्यादा खर्च किया जाए, ताकि बगैर मेहनताने वाले काम करने में महिलाओं को कम से कम वक्त लगे। इसके अलावा जन सुविधाओं के निजीकरण से बचने की भी बात कही गई है।

Category: