आंखों से शुरु होने वाले रिश्ते की खूबसूरती को उकेरा

  • Posted on: 25 November 2018
  • By: admin
जयपुर। स्त्री का संघर्षभरा है बल्कि ईश्वर ने उन्हें ऐसी इच्छाशक्ति दी है कि वो हर परिस्थिति के अनुरूप खुद को ढालकर परिवार को अच्छे से चलाती है। जिम्मेदारी के साथ साथ हर किसी के प्रति दया का भाव होता है। मूल फाउंडेशन की ओर से जवाहर सर्किल स्थित एक होटल में चल रही मुंबई की आर्टिस्ट लीनाता शाह की सोलो एग्जीबिशन एम्ब्राइडरी इन साइड आउट में नारी के विभिन्न हाव से कलाकार ने नारीमन के प्रेम विश्वास दृढं संकल्पशक्ति अहसास आदि भावों को दर्शाया है।
इस प्रदर्शनी में कुल 20 पेंटिंग्स है। आर्टिस्ट ने अपने आर्ट के जरिए औरत किसी तरह से घर में जीवन व्यतीत है उन सुंदल पलों को बेहतरील कलाकारी से चित्रों में बनाने का प्रयास किया है।
लीनाता मानती है कि आर्ट व डिजाइन उनके करियर व पैशन से बढ़कर है। इन्होंने आर्ट के जरिए ये संदेश दिया है कि आंख से किसी भी इंसान का रिश्ता शुरु होता है क्योंकि आंख सबसे पहले सामने वाले को देखती है और देखने के बाद हमें यकीन हो जाता है कि यह इंसान हमारे लिए परफैक्ट है। आंख ही दो लोगों के रिश्ते को नाम देती है। 
सभी पेंटिंग्स की कीमत 13 हजार से लेकर एक लाख रूपए तक है जिनको बिक्री के लिए रखा है।
चित्रकार की इन कृतियों में स्त्री घरेलु जीवन में बिताए पलों को खूबसूरती के साथ बताया है जिसमें गुलदस्ते हो सजाते हुए, फुर्सत के पलों में कॉफी मग लेकर, खुले बालों में घंघट निकालकर गहन मंथन में तो कही पर बच्चे को अपने कलेजे से लगाए हुए दिखाया है।
Category: