अब डोर टू डोर सख्ती से होगी निगरानी

  • Posted on: 10 May 2019
  • By: admin
जयपुर। शहर की सफाई व्यवस्था में सुधार के लिए डोर टू डोर कचरा संग्रहण करने वाली फर्म बीवीजी कंपनी पर अब नगर निगम सख्ती से निगरानी करेगा। इसके लिए मुख्यालय में लगे इंजीनियरों को फर्म के कार्यों की निगरानी के लिए मुख्यालय से हटाकर जोनों में लगाया गया है। पिछले दिनों स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 के लिए आयोजित बैठक में लिए गए निर्णय की पालना के लिए अब इंजीनियरों को मुख्यालय से हटाकर विभिन्न जोनों में लगाया है।
इसके साथ ही अधिकारियों को संबंधित सीएसआई के साथ नियमित रूप से फील्ड में रखकर कंपनी के कार्यों की निगरानी की जाएगी कि फर्म नियमित रूप से घरों से कचरा संग्रहण कर रही है या फिर नहीं। यह अधिकारी नियमित रूप से निगरानी कर अपनी रिपोर्ट तैयार कर उच्चाधिकारियों को देंगे। इसके साथ ही यह अपनी उपस्थिति भी जोनो में देंगे और संबंधित जोन में डोर टू डोर कचरा संग्रहण की निगरानी करेंगे। हालांकि यह अधिकारी डोर टू डोर कचरा संग्रहण की निगरानी के लिए नियुक्त थे, लेकिन ये अधिकारी फील्ड में नहीं जाकर मुख्यालय से ही कागजी निगरानी कर रहे थे, जिससे फर्म की लगातार मनमानी बढ़ती जा रही थी।
सफाई व्यवस्था में आएगा सुधार
पिछले दिनों फर्म ने भुगतान नहीं करने पर काम बंद करने की चेतावनी देने के साथ ही शहर में संसाधन भी कम कर दिए थे। अब अधिकारियों की नियमित निगरानी से फर्म की मनमर्जी पर रोक लगाने के साथ ही काम नहीं करने की स्थिति में जुर्माना लगाने में भी आसानी रहेगी। इससे फर्म की कार्य प्रणाली में भी सुधार होने के साथ ही शहर की सफाई व्यवस्था में भी सुधार आएगा।
इन अधिकारियों को किया तैनात
निगम प्रशासन ने अखिलेश कुमार ओझा को विद्यााधर नगर जोन, घनश्याम दास को हवामहल पश्चिम और आमेर जोन, राजेश कुमार मीना सांगानेर जोन, सुरेन्द्र कुमार मोतीडूंगरी जोन, सीमा को मानसरोवर, अच्युतधर द्विवेदी को हवामहल पूर्व एवं प्रियंका ताखर को सिविल लाइंस जोन में लगाया गया है। अभी तक अधिकारी निगम मुख्यालय में प्रोजेक्ट शाखा में तैनात थे।
Category: