अन्नपूर्णा दूध योजना छात्र-छात्राओं के पोषण और उनके उचित विकास से जुड़ी महत्वकांक्षी योजना:गंगवाल

  • Posted on: 25 June 2018
  • By: admin
जयपुर। राज्य सरकार द्वारा 2 जुलाई से आरम्भ हो रही महत्वकांक्षी ''अन्नपूर्णा दूध योजना'' के राज्य स्तरीय द्वारा समारोह की तैयारियों को लेकर शुक्रवार को शासन सचिवालय में स्कूल शिक्षा के प्रमुख शासन सचिव नरेश पाल गंगवाल की अध्यक्षता में बैठक आयोजित हुई।  बैठक में गंगवाल ने अधिकारियों को अन्नपूर्णा दूध योजना के शुभारम्भ समारोह के सफल क्रियान्वयन से सम्बन्धित आवश्यक दिशा-निर्देश देते हुए कहा कि राज्य सरकार की यह योजना छात्र-छात्राओं के पोषण और उनके उचित विकास से जुड़ी एक महत्वकांक्षी योजना है।
उन्होंने कहा कि अन्नपूर्णा दूध योजना से छात्र-छात्राओं में आवश्यक पोषक तत्वों की पूर्ति हो सकेगी, इसके साथ-साथ राज्य के पशुपालक एवं दूध उत्पादक ग्रामवासी भी लाभान्वित होंगे। उन्होंने उपस्थित अधिकारियों को ''अन्नपूर्णा दूध योजना'' के शुभारम्भ समारोह को जिला, ब्लॉक एवं पंचायत स्तर पर भी भव्य एवं व्यापक रूप से आयोजित करने एवं समारोह में अधिकाधिक स्कूली बच्चों और उनके अभिभावकों को सम्मिलित करने के निर्देश दिए। बैठक में मिड-डे मील आयुक्त वेद सिंह ने बताया कि वर्तमान में मिड-डे मील योजना से लाभान्वित समस्त प्राथमिक, उच्च प्राथमिक विद्यालयों, मदरसों के साथ ही स्पेशल ट्रेनिंग सेन्टर्स के 1 से 8 तक के छात्र-छात्राओं को भी सप्ताह में तीन बार उच्च गुणवक्ता, ताजा दूध उपलब्ध करवाया जाएगा।
सिंह ने बताया कि राज्य सरकार की महत्वकांक्षी ''अन्नपूर्णा दूध योजना'' के अन्तर्गत कक्षा एक से 5 तक के विद्यार्थियों को अब दोपहर के भोजन के साथ-साथ 150 मिली लीटर एवं कक्षा 6 से 8 तक के बच्चों को 200 मिली लीटर पोषक दूध सप्ताह में तीन बार उपलब्ध होगा।
बैठक में राजस्थान प्राथमिक शिक्षा परिषद के आयुक्त जोगाराम, समग्र शिक्षा अभियान की राज्य परियोजना निदेशक शिवांगी स्वर्णकार, शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों, अक्षय पात्र फाउण्डेशन के प्रतिनिधि सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी भी उपस्थित थे।
Category: