पुलिस शहीद दिवस-2012 : शहीदों को सम्मान दें और उनसे प्रेरणा लें-महानिदेशक पुलिस

  • Posted on: 2 November 2012
  • By: admin

जयपुर। पुलिस शहीद दिवस के अवसर पर रविवार को राजस्थान पुलिस अकादमी,जयपुर के शहीद स्मारक स्थल पर महानिदेशक पुलिस हरीश चन्द्र मीना ने पुष्प चक्र चढ़ा कर शहीद पुलिसकर्मियों को श्रद्घांजलि अर्पित की। इस अवसर पर मीना ने पुलिस शहीद सम्मान गार्ड की परेड़ टुकड़ी का निरीक्षण किया एवं परेड़ की सलामी ली। मीना ने गत वर्ष देश के विभिन्न प्रदेशों एवं अद्र्घ सैनिक बलों के शहीद 570 पुलिसकर्मियों के नामों का वाचन किया जिन्होंने अपने कर्तव्यों का पालन करते हुए देश के लिए अपनी जान न्यौछावर कर दी।

भूजल स्तर के गिरने पर जोशी ने चिंता व्यक्त की

  • Posted on: 2 November 2012
  • By: admin

वाराणसी। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता डॉ. मुरली मनोहर जोशी ने अत्यधिक जल दोहन के चलते भूजल के स्तर में तेजी से आ रही गिरावट पर चिंता जाहिर की है और इसके लिए केन्द्र की नीतियों को जिम्मेदार ठहराया। स्थानीय सांसद डॉ. जोशी ने पार्टी कार्यालय में आज संवाददाताओं से बातचीत में कोका कोला सरीखी कंपनियों का उल्लेख करते हुए कहा, 'केन्द्र सरकार बहुराष्ट्रीय कंपनियों को यदि इसी तरह जल दोहन की अनुमति देती रही तो किसान सहित आमजन के सामने पेयजल का गंभीर संकट उत्पन्न हो जाएगा।'

हिमाचल प्रदेश विधानसभा के आगामी चुनावों के लिए तैयारियां जोरों पर

  • Posted on: 2 November 2012
  • By: admin

शिमला। हिमाचल प्रदेश विधानसभा के आगामी चुनावों के लिए तैयारियां जोरों पर हैं। विधानसभा की 68 सीटों के लिए चार नवंबर को चुनाव होने हैं। इन चुनावों में 459 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। नदायूं और चुरा (अनुसूचित जाति) सीट पर तीन उम्मीदवारों के बीच संघर्ष की संभावना है जबकि रामपुर (अनुसूचित जाति), श्री रेणुकाजी (अनुसूचित जाति) और सेराज एवं जुब्बल एवं कोटखई में चार पक्षों के बीच कड़े मुकाबले की संभावना है। देहरा में सबसे ज्यादा 16 उम्मीदवार किस्मत आजमा रहे हैं जबकि धर्मशाला में 14, अर्की में 11 और मंडी एवं गागरेट 10-10 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं।हिमाचल विधानसभा चुनाव की तैयारियां जोरों

सेहत-समाज से खिलवाड़

  • Posted on: 2 November 2012
  • By: admin

देश भर से लिए गए दूध के नमूनों में से करीब 70 प्रतिशत का फेल हो जाना इस आशंका पर मुहर लगाता है कि हर कहीं मिलावटी दूध की बिक्री हो रही है। चूंकि इस आशय का हलफनामा खुद केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में पेश किया है इसलिए संशय की गुंजाइश ही नहीं रह जाती। सच तो यह है कि इस तथ्य के बाद संशय घबराहट में बदल जाती है कि अनेक जगह सेहत के लिए घातक डिटर्जेट से दूध तैयार किया जा रहा है। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट सरकार को चाहे जो निर्देश दे, इसकी उम्मीद कम ही है कि मिलावटखोरों के दुस्साहस पर कोई लगाम लगेगी। मुश्किल यह है कि समस्या केवल दूध में मिलावट की ही नहीं है। देश में ऐसे खाद्य एवं पेय पदार्थो की स

इंजीनियरिंग से मोहभंग

  • Posted on: 2 November 2012
  • By: admin

इंजीनियरिंग और तकनीकी शिक्षा का नया सत्र शुरू हो चुका है। इस सत्र में भी देश के सभी राज्यों में बड़े पैमाने पर सीटें खाली रह गई हैं। इस बार पूरे देश में साढ़े तीन लाख से ज्यादा सीटें खाली रह गई हैं। राजस्थान में तो आधी से अधिक, लगभग 35 हजार सीटें खाली रह गईं। यही हाल उत्तर प्रदेश और आंध्र प्रदेश जैसे बड़े राज्यों का भी है। पिछले साल इंजीनियरिंग और तकनीकी शिक्षा के सत्र में पूरे देश में ढाई लाख से ज्यादा सीटें खाली रह गई थीं। इनमें अकेले उत्तर प्रदेश में 70 हजार सीटें खाली थीं। देश में तकनीकी शिक्षा के हालात साल दर साल खराब होते जा रहे हैं और सरकार की तरफ से इस पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा

नौकरी ढूंढने का सही तरीका

  • Posted on: 2 November 2012
  • By: admin

 नया साल आते ही बहुत से लोग नौकरियों केलिए नए आवेदन भेजना शुरू करते हैं। कैरियर एक्सपर्ट का कहना है कि नौकरी केलिए आवेदन भेजने की प्रक्रिया के पांच महत्वपूर्ण चरण होते हैं। इनमें से अगर एक का भी अनुसरण नहीं किया जाता है  तो नौकरी की संभावना काफी कम हो जाती है। इनमें प्रारंभिक तैयारी, कवरिंग लेटर, शानदार रिज्यूमे, साक्षात्कार में कुशलता और समय-समय पर किया गया फॉलोअप शामिल हैं। प्रारंभिक तैयारी सबसे महत्वपूर्ण चरण है। इस समय की गयी तैयारी नौकरी ढूंढने में बहुत मदद करेगी। इस तैयारी में आपकी कमजोरियों और प्रवीणताओं का लेखा-जोखा शामिल है। अपनी पसंद केकार्य वातावरण और कार्य प्रकृति के बारे में अच

क्रांतिकारी कदम

  • Posted on: 2 November 2012
  • By: admin

सरकारी अनुदान का लाभ सीधे जनता तक पहुंचाने के लिए शुरू की जा रही योजना एक बड़ा कदम है। यह कदम क्रांतिकारी सिद्ध हो सकता है, यदि इस पर सही ढंग से अमल किया जाना सुनिश्चित हो सके। वैसे तो यह समय ही बताएगा कि विशिष्ट पहचान संख्या अर्थात आधार कार्ड के जरिये राजस्थान से विधिवत शुरू की जाने वाली यह योजना कितनी कामयाब होगी, लेकिन इससे उत्साहित हुआ जा सकता है कि देश के कुछ हिस्सों में नमूने के तौर पर संचालित किया गया प्रयोग सफल रहा। इस प्रयोग की सफलता आधार योजना को उल्लेखनीय बनाती है। यदि इस योजना के जरिये सब्सिडी के दुरुपयोग पर रोक लगाने का लक्ष्य हासिल हो जाता है तो केंद्र सरकार के खाते में एक बड़

उद्योगों की चिंता ज्यादा दिखती है

  • Posted on: 2 November 2012
  • By: admin

औद्योगिक घरानों के व्यावसायिक हितों के लिए नए भूमि अधिग्रहण कानून के प्रारूप में एक बार फिर खेती-किसानी से जुड़े लोगों के हितों को सूली पर चढ़ा दिया, जबकि हाल ही में केंद्र सरकार ने दिल्ली की और कूच कर रहे सत्याग्रहियों के साथ एक लिखित करारनामा करके भरोसा जताया था कि नए कानून में भूमि सुधार नीतियों को महत्व दिया जाएगा। भूमिहीनों के जमीन से जुड़े मुद्दे हल किए जाएंगे, लेकिन कानून का जो नया मसौदा सामने आया है, उससे तो लगता है कि सरकार को उजडऩे वाले लोगों की परवाह नहीं है। भूमि अधिग्रहण और मुआवजे के हक के कानून आज भी ब्रिटिश हुकूमत से जुड़े कानूनों से निर्मम व निरंकुश हैं। यह इस बात से प्रमाण्

आधार पर भरोसा

  • Posted on: 2 November 2012
  • By: admin

आधार की दूसरी सालगिरह पर जिस तरह प्रधानमंत्री से लेकर वित्त मंत्री और सोनिया गांधी तक ने आधार कार्ड पर भरोसा जताया है, उससे साफ है कि अब तक विवादों में रहा यह कार्ड अब स्वीकार्य होता नजर आ रहा है। इसकी वजह है इसे खुद सोनिया गांधी का समर्थन हासिल होना। कार्ड की दूसरी सालगिरह पर सबसे आश्चर्यजनक रहा अब तक इसके विरोधी रहे चिदंबरम का इसके समर्थन में आ जाना। इससे साफ होता है कि नेताओं की सोच उन्हें मिले मंत्रालय भी तय करते हैं। गृह मंत्री रहते आधार कार्ड को चिदंबरम का समर्थन नहीं मिल पाया था। मूलत: योजना आयोग की इस योजना को गृह मंत्रालय ने कभी मान्यता नहीं दी। यह गृह मंत्रालय का विरोध ही था कि बै

दुनिया में एक अरब लोगों के पास स्मार्टफोन

  • Posted on: 2 November 2012
  • By: admin

वाशिंगटन। मौजूदा दौर में कोई भी तकनीकी से अछूता नहीं हैं और इसका ताजा उदाहरण है दुनियाभर में तेजी से बढ़ रही स्मार्टफोन इस्तेमाल करने वालों की संख्या।
एक शोध के मुताबिक इस समय पूरी दुनिया में एक अरब से ज्यादा लोग स्मार्टफोन का इस्तेमाल कर रहे हैं।

Pages