पहले लैपटॉप का भी था भरपूर क्रेज

  • Posted on: 27 December 2012
  • By: admin

लंदन। तकनीक की दुनिया कितनी तेजी से रफ्तार पकड़ती है ये आप दुनिया के पहले लैपटॉप की कहानी जानकर तय कर सकते हैं। नन्हें उपकरणों के युग में लैपटॉप तो दूर लोग टैबलेट, नोटपैड, आइ-पैड और आइ-पॉड के छोटे से छोटे आकार चाहते हैं। लेकिन सिर्फ 1981 में ही दुनिया का पहला लैपटॉप तैयार हो चुका था। लेकिन एक एटैची नुमा बक्से में आने वाला ये लैपटॉप वजन और आकार में बड़ा था।
जबकि 2010 में ही अब से केवल दो साल पहले आइपैड दुनिया के सामने लाया गया है। दुनिया का पहला लैपटॉप ओस्बर्न ने तैयार किया था जो एक छोटा कंप्यूटर था जिसे आप पहली बार कहीं उठाकर ले जा सकते थे।

5.9 इंच के स्क्रीन वाला कार्बन ए 30 स्मार्टफोन लांच

  • Posted on: 27 December 2012
  • By: admin

नई दिल्ली। भारतीय हैंडसेट के निर्माता कार्बन ने 11, 500 रुपये की कीमत पर आकर्षक फीचर्स के साथ नया टचस्क्रीन फोन कार्बन ए 30 बाजार में उतारा है।
इस स्मार्टफोन के मुख्य फीचर्स पर एक नजर:-
- 8 मेगापिक्सल कैमरा
- 5.9 इंच का डिसप्ले
- एंड्रायड आइसीएस आधारित ऑपरेटिंग सिस्टम
-डुअल सिम
- कनेक्टिविटी के लिए ब्लूटूथ, वाईफाई और यूएसबी पोर्ट
- डुअल कैमरा व एलइडी फ्लैश
- 1 जीएचजेड डुअल कोर प्रोसेसर
- 2500 एमएएच बैटरी
- 32 जीबी एक्सपैंडेबल मेमोरी
- दो रंगों काले और सफेद में उपलब्ध है।

सरकार ने मानी सुस्ती की बात

  • Posted on: 27 December 2012
  • By: admin

नई दिल्ली। अर्थव्यवस्था बीते एक दशक की सबसे धीमी विकास दर की तरफ बढ़ रही है। संसद में पेश मध्यावधि समीक्षा में सरकार ने औपचारिक रूप से सुस्ती की बात स्वीकार की है। समीक्षा में कहा गया है कि चालू वित्त वर्ष 2012-13 में आर्थिक विकास की दर 5.7 से 5.9 प्रतिशत के बीच रहेगी। अलबत्ता अगले वित्त वर्ष के बजट में उठाए जाने वाले कदम और आर्थिक सुधार इसकी रफ्तार बढ़ाने में मदद करेंगे। इसी साल फरवरी में पेश आर्थिक सर्वेक्षण में सरकार ने चालू वित्त वर्ष के लिए 7.6 प्रतिशत की विकास दर का अनुमान लगाया था।

बैंकिंग विधेयक लोकसभा से पास

  • Posted on: 27 December 2012
  • By: admin

नई दिल्ली। लंबी जोड़-तोड़ और विपक्षी दलों के रूठने-मनाने के बीच केंद्र सरकार आखिरकार बैंकिंग अधिनियम संशोधन विधेयक लोकसभा से पारित कराने में सफल हो गई। वैसे, इसका रास्ता बनाने के लिए सरकार को इस विधेयक के दो विवादास्पद प्रावधान वापस लेने पड़े। वित्त मंत्री पी चिदंबरम के लिए इस विधेयक को पारित कराना कितना जरूरी था, इसे उनके लोकसभा में दिए बयान से ही समझा जा सकता है।

हवाई अड्डों के पास इमारतों की ऊंचाई हुई तय

  • Posted on: 27 December 2012
  • By: admin

नई दिल्ली। हवाई अड्डों के नजदीक अब इमारतें बनाने के लिए भारतीय एयरपोर्ट अथॉरिटी (एएआइ) की इजाजत लेने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। सरकार ने हवाई अड्डों के नजदीक विभिन्न दूरियों पर इमारतें बनाने के लिए इनकी न्यूनतम ऊंचाई तय कर दी है।

भारत-आसियान एफटीए

  • Posted on: 27 December 2012
  • By: admin

नई दिल्ली। भारत और आसियान गुरुवार को निवेश व सेवा व्यापार में मुक्त व्यापार समझौता वार्ता की समाप्ति का औपचारिक एलान करेंगे। इसी दिन भारत-आसियान सम्मेलन भी होने जा रहा है। इस समझौते को आगे बढ़ाने का मकसद द्विपक्षीय व्यापार को वर्ष 2015 तक 100 अरब डॉलर तक पहुंचाना है। फिलहाल यह आंकड़ा 80 अरब डॉलर का है।

मैदा, आटा, रवा, बेसन में मंदी, पोहा में सुधार

  • Posted on: 27 December 2012
  • By: admin

 इंदौर। किराना बाजार में ग्राहकी सामान्य से अधिक नहीं है। मैदा, आटा, रवा, बेसन में गिरावट रही, जबकि पोहा में सुधार। शकर-गुड़ के भाव स्थिर रहे। दीपावली बाद मैदा, रवा में तो ग्राहकी कमजोर पड़ गई है। वह भी विशेष रूप से रवा में जिससे भावों में अधिक मात्रा में गिरावट आई है। आटा के भाव भी घटे हैं।
मैदा में मांग सामान्य से अधिक नहीं है। मैदा मिलों को कुछ नीचे भाव का गेहूं मिलने से भाव घटाना पड़ रहे हैं। धान के भावों में तेजी से पोहा के भाव भी सुधरे हैं। पोहा में ग्राहकी ठीक चल रही है। खोपरा बूरा के क्षेत्र में लक्ष्यनाम से नया प्रवेश किया। जिसकी क्वालिटी बेहतर बताई जाती है।

तेज विकास को राजन ने सुझाया तीन सूत्री फार्मूला

  • Posted on: 27 December 2012
  • By: admin

नई दिल्ली। अर्थव्यवस्था की सुस्त होती रफ्तार से चिंतित सरकार अगली छमाही में सुधार की संभावना जता रही है। इसके लिए वित्त मंत्रालय में मुख्य आर्थिक सलाहकार रघुराम राजन ने अर्थव्यवस्था की रफ्तार तेज करने के लिए तीनसूत्री फार्मूला सुझाया है। संसद में पेश मध्यावधि आर्थिक समीक्षा में विकास दर में कमी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए राजन ने कहा कि अर्थव्यवस्था में सुधार का रुख दिखने लगा है। चालू वित्त वर्ष की अगली छमाही में अर्थव्यवस्था छह प्रतिशत की रफ्तार से बढऩे की उम्मीद है। राजन ने विकास की रफ्तार बढ़ाने के लिए उपाय सुझाते हुए कहा कि आने वाले बजट में अर्थव्यवस्था के प्रति भरोसा जताने वाले कदम

सस्ते कर्ज के लिए अभी और इंतजार

  • Posted on: 27 December 2012
  • By: admin

नई दिल्ली। सरकार, उद्योग जगत और आम आदमी सभी को भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआइ) ने एक बार फिर निराश किया है। मौद्रिक नीति की मध्य तिमाही समीक्षा करते हुए आरबीआइ गवर्नर डी सुब्बाराव ने नीतिगत ब्याज दर को यथावत रखा है, मगर अगले महीने ब्याज दरों को घटाने का कदम उठाने के पुख्ता संकेत दिए हैं। पिछले दो महीने में यह दूसरा मौका है, जब गवर्नर ने ब्याज दरों में कटौती करने के केंद्र के अनुरोध को ठुकराया है। आर्थिक सुस्ती को दूर करने के लिए केंद्र सरकार और उद्योग जगत लगातार यह मांग कर रहे हैं कि रिजर्व बैंक रेपो रेट (वह दर जिस पर कम अवधि के लिए बैंक आरबीआइ से कर्ज लेते हैं) में कमी करे। इसमें कमी होने से ऑ

Pages